ALL ग्वालियर संभाग राष्ट्रीय बिग ब्रेकिंग भोपाल संभाग उज्जैन संभाग जबलपुर संभाग सागर संभाग नर्मदापुरम संभाग इन्दौर संभाग CRIME NEWS
बुरहानपुर जिले में धूलकोट के ग्राम चिखलिया में डायग्नोस्टिक टीम द्वारा मिर्च के पौधों का किया गया निरीक्षण किसान खेत में जल निकासी की उचित व्यवस्था करे एवं मेटालेक्सिल 4 प्रतिशत एवं मेंकोजेब 64 प्रतिशत रसायन का छिडकाव 30 ग्राम प्रति पंप की दर से मिर्च की नर्सरी के पौधे पर करे, यदि नर्सरी में सफ़ेद मच्छर दिखाई पड़ता है तो तुरंत यह उपाय करें
June 8, 2020 • महेश मावले (सम्पादक) 9407505550

बुरहानपुर - ग्राम बोरीबुजुर्ग (चिखलिया) में मिर्च के पौधे में आ रही समस्या के संबंध में कृषि विज्ञान केंद्र से वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. अजीत सिंह, उद्यानिकी उप संचालक श्री आर.एन.एस. तोमर एवं कृषि उप संचालक श्री मनोहर सिंह देवके, कृषि सहायक संचालक श्री दीपक सिंह मंडलोई, ग्राम बोरीबुजुर्ग सरपंच सुमित अग्रवाल, आत्मा विशाल पाटीदार, केशराम डावर, ग्रामीण उधान विस्तार अधिकारी, कमल अग्रवाल एवं ग्राम चिखलिया के कृषकों की उपस्थिति में मिर्च पौध नर्सरी का निरीक्षण किया गया। यह जानकारी कृषि उपसंचालक श्री एम.एस.देवके ने दी। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि निरीक्षण में पाया गया कि चक्रवाती वर्षा के बाद नर्सरी में मिर्च पौधे में सूखने की समस्या देखी गई है। किसानों द्वारा सर्व प्रथम मिर्च में किसी भी फंगीसाईड का उपयोग बीज उपचार बुवाई के समय नहीं किया गया है, निरीक्षण के उपरांत में पाया गया की नर्सरी रोप में कालर रॉट एवं आर्द्रगलन की समस्या देखी गयी साथ ही कुछ किसान भाइयों में जानकारी के अभाव में फंगीसाईड पेस्टीसाइड एवं छण्च्ण्ज्ञण् (19रू19रू19) का छिड़काव रोप में किया गया जिससे पौध जलने की समस्या देखी गयी। वर्तमान में स्थिति को देखते हुये किसान भाइयों को सुझाव दिया जा रहा है कि खेत में उचित जल निकासी की व्यवस्था करे एवं मेटालेक्सिल 4 प्रतिशत एवं मेंकोजेब 64 प्रतिशत रसायन का छिडकाव 30 ग्राम प्रति पंप की दर से मिर्च की नर्सरी के पौधे पर करे, यदि नर्सरी में सफ़ेद मच्छर दिखाई पड़ता है तो तुरंत इमिडाक्लोरोप्रीड 6 एम.एल. प्रति पंप की दर से छिडकाव करे। भविष्य में जब भी मिर्च का रोप तैयार करना हो  बीज उपचार करके ही बुवाई करे। मुख्य खेत में रोपाई में पूर्व रोप को इमिडाक्लोरोप्रीड 3 एम.एल. एवं कार्बनडीजबीन 30 एम.एल. के घोल में 10 मिनिट तक डूबाकर रोपाई करे।