ALL ग्वालियर संभाग राष्ट्रीय बिग ब्रेकिंग भोपाल संभाग उज्जैन संभाग जबलपुर संभाग सागर संभाग नर्मदापुरम संभाग इन्दौर संभाग CRIME NEWS
महात्मा फुले का सपना किया साकार सत्यशोधक विवाह हुआ सम्पन्न
June 10, 2020 • महेश मावले (सम्पादक) 9407505550 • इन्दौर संभाग

 

बडवाह - सत्य शोधक समाज के युवा प्रदेश अध्यक्ष राहुल सावले जी आज मौसमी चटर्जी के साथ विवाह के बंधन में बंध गए। यह विवाह सत्यशोधक पद्धति से सम्पन्न हुआ। विवाह अपने आपमें एक क्रांति है, इससे दो दिल दो परिवार जुड़ते है और नए परिवार का आगमन होता है।

राहुल और मौसमी का विवाह कोई मामूली विवाह नहीं पर इस विवाह से ऐतिहासिक क्रांतियों का पुन: प्रारम्भ हुआ । पहली क्रांति : इस विवाह ने महात्मा जोतिबा फुले का सपना पुन: साकार किया। ४ फरवरी १८८९ को महात्मा जोतिबा फुले ने अपने बेटे यशवंत जोतिबा फुले का विवाह कुमारी राधा ससाने से करवाया। आधुनिक भारत में ये उन क्रांतिकारी विवाहो में से है। ये विवाह सत्यशोधक समाज के रीतिनुसार बगैर दहेज़ के, बगैर ब्राह्मण पुजारी के मंत्रो से, बगैर सात फेरो के बगैर किसी ब्राह्मणवादी पाखंड के इस्तेमाल बिना हुआ अंतर् जातीय विवाह था।

इस विवाह ने पुरे समाज में एक हलचल मचा दी, महाबली- महान नम्र, महाज्ञानी सम्राट बलिराजा, तथागत बुद्ध, महात्मा फुले, गुरु कबीरदास और बाबासाहेब डॉ भीमराव आंबेडकर के अनुयायी राहुल सावले जी ने अपने विवाह के ज़रिये उस क्रांति को फिरसे दोहराया। ये विवाह बगैर दहेज़, बगैर ब्राह्मण पोंगापंथ मन्त्र के, बगैर सात फेरो के, महात्मा जोतिबा फुले द्वारा स्थापित सार्वजानिक सत्य धर्म पुस्तक में लिखित विवाह संस्कार से हुआ ये सम्पूर्ण रूप से गैर हिन्दू, सार्वजानिक सत्य धार्मिक सत्यशोधक विवाह हुआ। महात्मा जोतिबा फुले ने सार्वजानिक सत्य धर्म की स्थापना की उनकी आखरी पुस्तक सार्वजानिक सत्यधर्म पुस्तक में उन्होंने जो सामाजिक बदलाव की रुपरेखा दी है उसमे विवाह पद्धति का भी एक अध्याय है। जो सभी रूढ़िवादी परम्परा से भिन्न है। उसमे सात फेरे नहीं है, मंगलसूत्र नहीं है, मंत्रजाप नहीं है, ब्राह्मण नहीं है। साथ ही साथ उसमे स्त्री-पुरुष समानता को अहम् दर्जा है। दूसरी क्रांति - इस विवाह में ऐसी क्रांति हुई जो इंदौर के इतिहास में कभी नहीं हुई। राहुल सावले जी और उनकी पत्नी ने इस विवाह में केवल महात्मा फुले द्वारा लिखित विवाह पद्धति को केवल पढ़ा ही नहीं बल्कि राहुल सावले जी ने अपनी पत्नी के पैर धोकर उनका सत्कार किया। साथ ही माता पिता के पैर भी धोये ऐसा कोई पुरुष नहीं करता, पुरुष द्वारा अपनी पत्नी के पैर धोना बराबरी की शुरुआत है। इस मौके पर बडवाह विधायक सचिन बिरला से शादी में आकर आशीर्वाद वंचन वर वधू को दिए साथ ही समाज को कम ख़र्च करके शादी करने का संदेश भी दिया ! रमेश मनसोरे सत्यपालक द्वारा शादी दी गई।