ALL ग्वालियर संभाग राष्ट्रीय बिग ब्रेकिंग भोपाल संभाग उज्जैन संभाग जबलपुर संभाग सागर संभाग नर्मदापुरम संभाग इन्दौर संभाग CRIME NEWS
पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने बुरहानपुर में किया किल कोरोना अभियान का शुभारंभ, डोर-टू-डोर होगा सर्वे*
July 2, 2020 • महेश मावले (सम्पादक) 9407505550 • इन्दौर संभाग

बुरहानपुर(मेहलक़ा अंसारी)कोविड-19 के व्यापक सर्वेलेन्स के लिए प्रदेशभर में 15 दिवसीय *किल कोरोना अभियान* चलाया जाएगा। इसकी शुरूआत एक जुलाई की जा रही है, जो अभियान 15 जुलाई तक चलेगा। प्रदेश के सभी जिलों में वायरस नियंत्रण और स्वास्थ्य जागरूकता अभियान में सरकार और समाज साथ-साथ कार्य करेंगे। बुरहानपुर में मध्यप्रदेश की पूर्व कैबिनेट मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस (दीदी) ने फीता काटकर और स्वयं की जांच कराकर अभियान की शुरुआत की। इस अवसर पर पूर्व जनपद पंचायत अध्यक्ष किशोर पाटिल, सँभाजीराव सगरे, रुर्देश्वर एंडोले, किशोर कामठे, आशीष शुक्ला, दीपक महाजन, नितिन महाजन, करण चौकसे, गोलू ठाकुर, शुभम सालवे, शहजाद लश्करी सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं चिकित्सक, स्वास्थ्य कर्मी, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता व आशा कार्यकर्ता उपस्थित रही। श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा कि कोविड-19 को हमें पूरी तरह से समाप्त करना है। आज से 'किल कोरोना अभियान' प्रारम्भ की जा रही है। इसमें सर्वे दल घर-घर जाकर सर्वे करेंगे। ये कोरोना के अलावा अन्य बीमारियों का भी परीक्षण करेंगे। हम,आप मिलकर इसे परास्त करेंगे, अपना बुरहानपुर और प्रदेश स्वस्थ बनाएंगे। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि मुझे पूर्ण विश्वास है, कि हमारे डॉक्टर्स एवं सर्वे दल कर्तव्यनिष्ठा के साथ इस अभियान को पूर्ण करेंगे और अतिशीघ्र हम इस कोरोना महामारी के संकट से मुक्त होंगे। सभी से आग्रह है कि मास्क लगाएं, दो गज की दूरी पर रहें और समय-समय पर हाथ धोयें। यही आपको संक्रमण से बचायेगा। जागरुक रहें, स्वस्थ रहें। उन्होंने आमजनों से अपील की है कि किल कोरोना अभियान में घर-घर पहुंच रहे सर्वे दल को आवश्यक जानकारी देकर सहयोग करें। सर्दी- खांसी जुकाम के साथ डेंगू, मलेरिया, डायरिया आदि के लक्षण पाए जाने पर भी जरूरी परामर्श और उपचार नागरिकों को मिलेगा। इन कार्यों में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान भी रखे। श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा कि देश के इस अनूठे और बड़े अभियान से अन्य प्रदेशों तक भी एक सार्थक संदेश पहुँचेगा। किल कोरोना अभियान में सर्वे द्वारा एस.ए.आर.आई./आई.एल.आई. के संदिग्ध मरीजों के साथ-साथ मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया आदि के संदिग्ध मरीजों को भी चिन्हांकित कर इनकी प्रविष्टि सार्थक एप में की जाएगी। कोविड-19 के संदिग्धों की जिनकी प्रविष्टि सार्थक एप पर की जाती है, के सम्बन्धित क्षेत्रों को मेप्ड एम.एम.यू. द्वारा सेम्पलिंग की जाएगी। रोजाना चिन्हित किए गए संदिग्धों की सेम्पलिंग के बाद उनकी टेस्टिंग आर.टी.पी.सी.आर. और टी.आर.यू.एन.ए.टी. के माध्यम से की जाएगी। पूर्व मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने बताया कि 3 लाख ये ज्यादा होंगे सेम्पल प्रदेशभर में एस.ए.आर.आई./आई.एल.आई. सर्वे के बाद चिन्हित संदिग्धों के 3 लाख से ज्यादा सेम्पल लिये जायेंगे। रोजाना 21 हजार टेस्ट किए जाने की क्षमता विकसित की जा रही है। इसमें प्रदेश के औसत पॉजीटिविटी से अधिक पॉजीटिविटी वाले 13 जिलों में सघन सेम्पलिंग आर.टी.पी.सी.आर. और टी.आर.यू.एन.ए.टी. के जरिए होगी। ऐसे 29 जिले जहां पाजीटिविटी दर प्रदेश के औसत से कम है, में जनरल सर्वेलेन्स के लिए पूल्ड सेम्पलिंग के निर्देश दिये गये हैं। प्रदेश में 69 टी.आर.यू.एन.ए.टी. साईट्स संचालित है, जहां जिला स्तर पर टेस्टिंग की सुविधा उपलब्ध रहेगी। स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि किल कोरोना अभियान के बाद प्रदेश में टेस्ट प्रति मीलियन की संख्या 4022 से बढ़कर 7747 हो जाने की संभावना है, जो कि राष्ट्रीय औसत से अधिक है। इसी तरह अधिक सेम्पलिंग के परिणामस्वरूप प्रदेश की पॉजीटिविटी दर में भी गिरावट आएगी।