ALL ग्वालियर संभाग राष्ट्रीय बिग ब्रेकिंग भोपाल संभाग उज्जैन संभाग जबलपुर संभाग सागर संभाग नर्मदापुरम संभाग इन्दौर संभाग CRIME NEWS
श्रद्धा की नगरी देवास मे मटन-व्यापार - जनसेहत पर खतरनाक प्रहार
June 23, 2020 • महेश मावले (सम्पादक) 9407505550 • इन्दौर संभाग

देवास (शाकिर अली दीप) मां चामुंडा की नगरी देवास में पाड़े के मांस और चिकन का व्यपार जनता की सेहत से खुला खिलवाड़ साबित हो रहा है। बस स्टेण्ड के सामने नई आबादी गली नंबर एक में निवास करने वाले कुछ कसाई परिवार वर्षों से भैंसवंश के मांस का व्यपार कर रहे हैं और इस व्यपार की आड़ मे जमकर नियमों के विरुद्ध कृषि योग्य, बालपशु सहित एक पशु की स्वीकृति पर तीन पशु काट रहे हैं । कसाई परिवारों को नियमों के अनुसार नगर निगम से स्वीकृति के बाद ही कृषि के आयोग्य, स्वास्थ्य पशु काटने का अधिकार है वह भी शहर से बाहर वारसी नगर की वधशाला में लेकिन रिश्वतखोरी की ताकत से पशु को कंजर मोहल्ला, पठानकुआ, नौसराबाद, मल्हार कॉलोनी और नागदा में घर पर ही काट कर बैचा जाता है । एक स्वीकृति और एक लायसेंस पर तीन-तीन पशु काट कर ,नगर निगम के भ्रष्टों को रिश्वत देकर जनता की सेहत से खिलवाड़ किया जा रहा है। कभी कच्चे मकानों में रहने वाले फटेहाल पशु दलाल आज लाखों के मकानों में निवास कर रहे हैं और शासकीय भूमि पर अवैध अतिक्रमण किए हुए हैं। पांच रूपये महिना के किराएदार मकान मालिक बनकर बाल पशु वध के कीर्तिमान बना चुके हैं। नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग को रिश्वत देकर बाल पशुवध, कृषि योग्य पशुओं का स्वीकृति से अधिक वधकर रहे हैं। प्रशासनिक और नगरनिगम के अधिकारियों द्वारा अनेक छापे डालकर कार्रवाई की लेकिन अवैध व्यपार करने वालों को कुछ फर्क नहीं पड़ा । जनता का कहना है कि बीमारियों से ग्रस्त पशुओं का प्रदूषित मांस बेचने वाले मनमानी कीमत पर घर से ही पशु काटकर मटन बैच रहे हैं। नगर निगम और पशु चिकित्सालय के भ्रष्टों को रिश्वत देकर अधिकारियों को गुमराह कर मांस बैचने वाले एक स्वीकृति और लाइसेंस पर दो-तीन पशु काट देते हैं और इस कार्य से जुड़े जिम्मेदारों को गुमराह कर सहयोगियों को कुछ दक्षिणा बांट देते हैं । वारसी नगर की वधशाला छोड़कर कंजर मोहल्ला,पठान कुआ और अनेक स्थानों पर स्वीकृत एक पशु और एक लायसेंस की दो तीन फोटो कापी कर उसी नाम से बिना स्वास्थ्य की जांच व नगरनिगम स्वीकृति से पशु काट देते हैं । अपने आर्थिक लाभ के लिये बालपशु वध से भैंस वंश को खतरे मे डालने वाले ये मांस व्यपारियों द्वारा बीमार और कृषि योग्य पशुओं को भी काटा जा रहा है । नगरनिगम मे मांस व्यपारियों को सहयोग का बड़ा मामला भी उजागर हो चुका है । नवागत कलेक्टर चंद्रमौली शुक्लाऔर निगम आयुक्त विशाल सिंह चौहान को संयुक्त रूप से श्रद्धा की नगरी में कृषि योग्य और बाल पशुवध सहित अवैध मांस की बिक्री पर प्रभावी अंकुश लगाना चाहिए ।